Sunday, January 15, 2012

तेरी महक.......



















कुछ लफ्ज़ अपनी मोहब्बत के-
बिखेर दो मेरे आँगन....
इन हवाओं में घोल दो-
अपनी चाहत की नमी...!!
बरस जाओ बन के बादल
मेरे जिस्म-ओ-जां पर...
कि मेरी रूह का इक टुकड़ा भी प्यासा ना रहें...!!

उतर आओ सितारों के झीने से इक रोज,
और बाँट लो खुद को मेरी रगों में...
आहिस्ता आहिस्ता ;
पिघल जाओ बदन में मेरे-
कि ज़र्रे ज़र्रे से इसके सिर्फ तेरी महक आए....!!


                                   मानव 'मन' 

14 comments:

  1. प्रेम से भरा हर एक लफ्ज ...यूँ ही महक बिखरी रहें ...बहुत सुन्दर ...:))

    ReplyDelete
  2. सुन्दर अभिव्यक्ति.मकर संक्रंति की बधाई..

    ReplyDelete
  3. वाह प्रेममयी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  4. प्यार से भरी पाती हैं तुम्हारी

    ReplyDelete
  5. शुक्रिया सुमन :)))

    ReplyDelete
  6. शुक्रिया रश्मि जी...

    ReplyDelete
  7. कुंवर जी आपको भी बहुत बहुत बधाई ...

    ReplyDelete
  8. वंदना जी ..अंजू जी शुक्रिया ..

    ReplyDelete
  9. कोमल भावनाओं का सुन्दर प्रस्तुतीकरण

    ReplyDelete
  10. Sach mein mehak gayi hai sir.........

    ReplyDelete

आपकी टिपणी के लिए आपका अग्रिम धन्यवाद
मानव मेहता