Friday, March 29, 2013

अनकहे लफ्ज़
















कुछ अनकहे लफ्ज़-
टांगे हैं तेरे नाम,
इक नज़्म की खूंटी पर...
और वो नज़्म-
तपती दोपहर में...
नंगे पाँव-
दौड़ जाती है तेरी तरफ ...!!

गर मिले वो तुझको,
तो उतार लेना वो लफ्ज़-
अपने जहन के किसी कोने में
महफूज कर लेना....!!

और मेरी उस नज़्म के पांव के छालों पर,
लगा देना तुम अपनी मोहब्बत का लेप.....!!



मानव मेहता 'मन' 

18 comments:

  1. ज़ख्म भरें या न भरें .... एक तृप्ति मिल जाएगी

    ReplyDelete
  2. .बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति मोदी संस्कृति:न भारतीय न भाजपाई . .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब ...मौन की एक भाषा

    ReplyDelete
  4. ...मोहब्बत का लेप........ के मोहब्बत हर ज़ख्म भर देती है !
    बहुत खूब !

    ReplyDelete
  5. '...उतार लेना वो लफ़्ज़ ,
    अपने ज़ेहन के किसी कोने में
    महफ़ूज़ कर लेना !'
    - एहसास की अपनी भाषा !

    ReplyDelete
  6. नि:शब्द हूँ ....

    ReplyDelete
  7. बहुत ही भावात्मक प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
  8. और मेरी उस नज़्म के पांव के छालों पर
    लगा देना तुम अपनी मोहब्बत का लेप.....!!

    सालते छालों पर इससे बेहतर मरहम क्या होगा भला...।

    ReplyDelete
  9. मोहब्‍बत का लेप...;क्‍या बात है

    ReplyDelete
  10. बहुत खूब ... शब्दों की जादोगरी ...
    मुहब्बत का लेप ... आफरीन ...

    ReplyDelete
  11. मखमली जज़्बात ............प्यार की सौगात

    ReplyDelete
  12. अनकहे लफ़्जों की अनोखी दास्ताँ...

    ReplyDelete
  13. वाह..
    बहुत ही ख़ूब
    सुन्दर भावात्मक अहसास लिए रचना..
    :-)

    ReplyDelete
  14. मोहब्बत और तेरे हाथों की छुवन हर लेंगे सब दर्द......

    बेहद खूबसूरत ...
    अनु

    ReplyDelete
  15. अनकहे लफ्जों को नज्म बयाँ कर देती है
    उस नज्म को उसकी मंजिल मिले तो बढ़िया
    बहुत ही सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete

आपकी टिपणी के लिए आपका अग्रिम धन्यवाद
मानव मेहता