Monday, January 06, 2014

दर्द-ए-जिंदगी












जिंदगी दर्द में दफ़न हो गई इक रात,
उदासी बिखर गई चाँदनी में घुल कर....!!
चाँद ने उगले दो आँसू,
ज़र्द साँसें भी फड़फड़ा कर बुझ गयी......!!

इस दफा चिता पर मेरे-
मेरी रूह भी जल उठेगी.........!!




मानव मेहता 'मन'  

5 comments:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रविकर साहब...!!

      Delete
  2. Replies
    1. शुक्रिया कालीपद प्रसाद जी...!!

      Delete

आपकी टिपणी के लिए आपका अग्रिम धन्यवाद
मानव मेहता