Saturday, October 05, 2013

सागर की लहरें

हर बार
आती हुई लहर
मुझे छू कर
ले जाती है मुझसे
मेरा थोड़ा सा
हिस्सा_
दूर कहीं सागर में
छोड़ देती है...

कतरा कतरा
हर बार
यूँ ही बिखरते हुए
समा जाऊंगा इसमें!!
सारे का सारा...

और दूर
जहाँ मिल रहे है
सागर और आकाश
एक दूजे में....
मैं भी
वहीँ कहीं
हो जाऊंगा विलीन
....!


मानव मेहता 'मन' 


14 comments:

  1. नवरात्रि की शुभकामनायें आदरणीय -

    सागर की लहरें ललक, लहर लहर लहराय |
    जिए चार पल शान से, मनवांछित गति पाय ||

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सुन्दर लिखा आपने रविकर जी।
      शुक्रिया।

      Delete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत आभार रविकर जी।

      Delete
  3. बहुत ही सुन्दर रचना....
    :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रीना जी।

      Delete
  4. आपकी यह उत्कृष्ट रचना ‘ब्लॉग प्रसारण’ http://blogprasaran.blogspot.in पर कल दिनांक 6 अक्तूबर को लिंक की जा रही है .. कृपया पधारें ...
    साभार सूचनार्थ

    ReplyDelete
    Replies
    1. शालिनी जी... आपका बहुत आभार...

      Delete
  5. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति !
    latest post: कुछ एह्सासें !

    ReplyDelete
    Replies
    1. कालीपद जी... धन्यवाद...

      Delete
  6. सुन्दर प्रस्तुति आभार नवरात्रि की शुभकामनायें-
    कभी यहाँ भी पधारें।
    सादर मदन

    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया मदन मोहन जी...

      Delete
  7. सागर की इन लहरों में रौशनी से मिलन की चाह ...
    लाजवाब शब्द सृजन है ...

    ReplyDelete
  8. ​लाजवाब शब्द संयोजन

    ReplyDelete

आपकी टिपणी के लिए आपका अग्रिम धन्यवाद
मानव मेहता