Saturday, August 10, 2013

माँ, तुम यहीं रुको, मैं बस अभी आया |












मैले कुचैले कपड़ों में लिपटी
एक बूढ़ी औरत
सर से लेकर पाँव तक झुकी हुई
एक वक्त की रोटी भी नसीब नहीं जिसको
हाथ बाए खड़ी है चौराहे पर
पेट भरने के लिए
मांगती है भीख |

मुरझाई हुई सी
इन बूढ़ी आँखों को
चंद सिक्कों के आलावा
तलाश है कुछ और |

झाँका करती है अक्सर
आते जाते लोगों के चेहरों में
ढूँढा करती है उस शख्स को
जो पिछले बरस कह के गया था
‘माँ, तुम यहीं रुको, मैं बस अभी आया |’


मानव 'मन' 

33 comments:

  1. bahut achhi kavita .... maa vishy par ek sangrah nikaal rahi hun aap chahein to uske liye do rachnayein bhej sakte hain ....vistar se jaanne ke liye sampark karein ...

    harkirathaqeer@gmail.com

    ReplyDelete
  2. उफ़....बहुत ही मार्मिक शब्द चित्रण ....दर्द भरी रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया मंजूषा जी....

      Delete
  3. Replies
    1. शुक्रिया कालीपद जी।

      Delete
  4. मार्मिक.. बदलत्ते दौर की तस्वीर है ये । कितनी अजीब बात है एक अकेली माँ अपने सभी बेटों को हर हाल में पाल लेती है उफ्फ तक नही करती .. पर समय आने पर बच्चों से एक माँ नही पाली जाती ।

    ReplyDelete
  5. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (11-08-2013) के चर्चा मंच 1334 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अरुन भाई।

      Delete
  6. बहुत अच्‍छी रचना...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रश्मि जी।

      Delete
  7. बहुत सुंदर , आपकी इस उत्कृष्ट रचना की प्रविष्टि कल रविवार ब्लॉग प्रसारण http://blogprasaran.blogspot.in/ पर भी .. कृपया पधारें

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया शालिनी जी।

      Delete
  8. मार्मिक एवँ हृदयस्पर्शी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. साधना जी, शुक्रिया।

      Delete
  9. बेहद मार्मिक शब्द चित्र बना दिया आपने ...... बहुत खूब !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया निवेदिता जी।

      Delete
  10. बहुत मार्मिक, लेकिन काश ये हकीकत में न होता...!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हंजी स्नेहा जी।
      काश, मगर इस हकीकत को झुठलाया नहीं जा सकता।

      Delete
  11. ह्रदय स्पर्शी, काश बेटे का भी ह्रदय पिघले ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. एक साल से इन्तज़ार है आशा जी, अब तक तो नहीं पिघला।

      Delete
  12. मानव ...अभी तक नहीं उबर पाई.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. सरस जी, मैं रोज़ इस बूढी औरत को देखता हूँ।

      Delete
  13. बहुत मार्मिक प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार संगीता जी।

      Delete
  14. मार्मिक ... क्या कहें ऐसे बच्चों के बारे में ... कितना स्वार्थी हो सकते हैं ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी दिगम्बर जी,
      कलयुग है।

      Delete
  15. yadi sachmuch koi majboori hai jiske karan koi asamarth hai mata-pita ko sahara dene mein to dher sare vriddhashram hain, samaj seva kendra hain ,wahan le jaye .madad mange, par is tarah ek asahay insaan ko raste mein chhodh kar gayab ho jana bohat galat baat hai.
    bohat hi marmsparshi rachna Manav ji

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कह रहें हैं अपर्णा जी,
      मगर क्या करें आजकल ऐसे बच्चों की कमी नही।
      कलयुग है जी।

      Delete
  16. दिल की गहराई तक पहुँचते तीखे शब्द ! जमाने की हकीकत बयां करते हैं

    ReplyDelete

आपकी टिपणी के लिए आपका अग्रिम धन्यवाद
मानव मेहता