Wednesday, July 03, 2013

उमस भरी रात...

रात तारों ने फांसी लगा ली...
चांदनी का कफ़न ओढे-
चाँद सोता रहा ।
दर्द चिपचिपाते रहे आपस में...
उमस भरी रात जख्म कुरेदती रही...
अँधेरा कचोटता रहा-
जेहन में पलती हुई नज़्म को...
क़त्ल हो गए कुछ लफ्ज़-
घुटती हुई साँसों में घुट कर...
कल शब् भर आसमाँ से
मातम बरसते देखा मैंने ।


46 comments:

  1. Replies
    1. शुक्रिया संगीता जी।

      Delete
    2. Dard se bhi Zyada...........Kuch..................

      Delete
    3. शुक्रिया मनु जी।

      Delete
  2. लफ्ज क़त्ल हो गए--
    बढ़िया प्रयास-
    शुभकामनायें आदरणीय-

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रविकर साहब।

      Delete
  3. raat taron ne faansi laga li
    chandni ka kafan odhe, chaand sota raha...
    waah... kya baat hai..

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अपर्णा जी।
      सादर।

      Delete
  4. बहुत खूब ... शब्दों की जादूगरी ...
    भावपूर्ण ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिगम्बर जी, शुक्रिया।

      Delete
  5. बहुत मर्मस्पर्शी रचना..

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया कैलाश शर्मा जी।

      Delete
  6. Replies
    1. रमाकांत जी, बहुत धन्यवाद।

      Delete
  7. Replies
    1. शुक्रिया कालीपद जी।

      Delete
  8. dard ki inteha me matam ka barsna lazmi hai shayad..bilkul vaise jaise ik tees ka kalam se yun lafzon me jharna....painfull wrds manav but hving deep thoughts

    ReplyDelete
  9. दर्द से भरी .........बेहद खूबसूरत प्रस्तुती

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया मंजूषा जी।

      Delete
  10. उफ़ ..दर्द ही दर्द

    ReplyDelete
    Replies
    1. dard hi dard to hai har jgh Anju ji....
      aur isiliye ye dard ki hi aawaz hai....

      Delete
  11. kal shab bhar matam barasta raha ..........uffffffff kya baat hai ....
    meri udaas raatoN ka tumhaari udaas raat se koi rishta zaroor hai ........poonam
    see my status on Fb Manav........u will notice the resemblance

    ReplyDelete
    Replies

    1. haan maine dekha abhi...
      waakai koi na koi rishta jarur hai....
      in udaas raton ke beech...

      Delete
  12. कल शब् भर
    आसमां से मातम बरसता रहा ...
    उफ्फ इसतरह भी लिखी जाती है नज्म
    वाकई मार्मिक !

    ReplyDelete
    Replies
    1. नमस्कार सुमन जी।
      धन्यवाद आपको ये नज़्म पसंद आई।
      बहुत शुक्रिया।
      :)

      Delete
  13. वाह !!! बहुत उम्दा लाजबाब भावपूर्ण प्रस्तुति,,,

    RECENT POST: गुजारिश,

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया धीरेन्द्र सिंह जी।

      Delete
  14. Replies
    1. धन्यवाद निहार रंजन।

      Delete
  15. बेहद खूबसूरत ........ लाजवाब !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया नीता जी।

      Delete
  16. अँधेरा कचोटता रहा-
    जेहन में पलती हुई नज़्म को...
    क़त्ल हो गए कुछ लफ्ज़-
    घुटती हुई साँसों में घुट कर.\
    ...............देरी से आने के लिए क्षमा अरुण जी
    बहुत ही सही ... उत्‍कृष्‍ट लेखन के लिए आभार !!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. संजय जी,
      पसंद करने के लिए धन्यवाद।

      Delete
  17. दर्द बोल उठा है जैसे कविता में.
    बहुत खूब!

    [आप चित्र पर हिंदी में कैसे लिख पाते हैं? मैंने प्रयास किया था सफल नहीं हुई.क्या आप बताएँगे?]

    ReplyDelete
    Replies
    1. अल्पना जी,
      बहुत शुक्रिया आपका।

      ( चित्र पर लिखना बहुत आसान है। आप एक बार में ही इसे सीख सकती हैं। इसके लिए

      सबसे पहले आपके पास कंप्यूटर में ms word होना जरुरी है।
      ms word में आप टाइप कीजिये। टाइप करते हुए ये ध्यान में रखें की आपका जो भी matter है वो इसी screen पर नज़र आये। यानि की starting point से लेकर end point आपको एक ही स्क्रीन पर दिखने चाहिए। यदि ऐसा नहीं है तो font size se उसे बड़ा छोटा कर सकते हैं।

      अब ms word में एक आप्शन होता है insert picture का।
      आप उसे क्लिक करेंगे तो आपके सामने एक बॉक्स आएगा जिसमे से आप अपने पसंद की कोई भी picture ले सकते हैं।जैसे ही आप अपनी पसंद की picture पर click करेंगे वो आपके text के पेज पर आ जायेगा। अब side में picture settings दिखेगी। उसमे picture को bihind text का option click कीजिये। तब आपका text picture के उप्पर आजायेगा। अब आप इस पिक्चर को text के मुताबिक adjust कर लीजिये


      अब आप ये सुनिचित कर लें की आपकी ये picture और text पूरा एक ही screen में show हो रहा है की नहीं। अब आप अपने computer में print screen का button दबाइए। आपका ये पेज अब कॉपी हो चूका है।

      इसके बाद अब आप Paint open कीजिये। यहाँ अब इसे paste कीजिये। यहाँ वो पूरा पेज पेस्ट हो जाएगा। अब इसे select कर के अपने हिसाब से crop कर लीजिये। फिर इसे jpeg format me save कर लीजिये।

      बस इसी तरह आप चित्र पर लिख सकती हैं। और भी कई तरीके हैं चित्र पर टाइप करने के मगर ये तरीका सबसे आसन और जल्दी से होने वाला है।

      उम्मीद है आप इसे अच्छे से कर पाएंगी।)

      Delete
    2. यह तो वाकई बहुत आसान तरकीब है.मैं इसे प्रयोग कर के देखूंगी.
      अगर कामयाब हुई तो आप को ज़रूर खबर करूंगी.
      बहुत-बहुत आभार.

      Delete
    3. कैसा रहा अल्पना जी,
      कर के देखा।
      हुआ आपसे।

      Delete
  18. Replies
    1. शुक्रिया सुनील भाई।

      Delete
  19. सच दर्द की जब इन्तहां होती है तब सूनी आँखों में हर तरह अँधेरा ही अँधेरा छाया नज़र आता है ..
    दर्द को बड़ी गहराई है आपनी रचना में ..
    बहुत बढ़िया ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा कविता जी,
      शुक्रिया।

      Delete
  20. tacit expressions! अंतर्मन की कशिश की सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया स्नेहा जी।

      Delete

आपकी टिपणी के लिए आपका अग्रिम धन्यवाद
मानव मेहता