Thursday, June 06, 2013

मुहब्बत का इत्र

















इस हवा के बदन पर मैंने 
अपनी मुहब्बत का इत्र छिड़का है .... 
और भेजा है तेरी ओर बंद लिफ़ाफे में भर कर ..... 

जब मिल जाए तो इसको 
धीरे से खोलना 
महसूस करना मेरी वफ़ा को 
और भर लेना साँसों में अपनी .... 

नई सुबह फिर से नया पैगाम भेजूँगा ....... 
तब तक अपने जिस्म को महकाए रखना इससे .... !!


'मन'


33 comments:

  1. waah manav...muhabbat ke itr ki mahak to kabhi kam nhi hoti..ye jism to kya rooh ko sarobar kar deti hai...

    tere ehsas ko bhar lu baaho'n me sanam
    fiza me faili hai aaj khushbu tere pyaar ki !!

    su..man

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुन्दर लिखा है।
      शुक्रिया।

      Delete
  2. क्या बात है ! वाह !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया साधना जी।

      Delete
  3. प्यार की खुशबू से भरी प्यारी सी कविता .. मानव जी बहुत बहुत बधाई!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया शालिनी जी।

      Delete
  4. हर एक को आपकी कल्पना समान रोज पैगाम भेजने वाला मिलना चाहिए। हर एक का जीवन खुशबूदार और महक से भरपूर हो। किसी अपने को मुहब्बत के इत्र से खुश रखना सुंदर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाहाहा विजय जी,
      जरुर, ऐसा सभी को मिलना चाहिए।
      शुक्रिया विजय भाई।

      Delete
  5. Replies
    1. आपका धन्यवाद रजनीश जी।

      Delete
  6. खुबसुरत सुगन्धित सन्देश !
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post मंत्री बनू मैं
    LATEST POSTअनुभूति : विविधा ३

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद कालीपद जी।

      Delete
  7. वाह मानव......!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आशीर्वाद है आपका।

      Delete
  8. वाह बहुत खुबसूरत भाव बहुत सुन्दर लगे !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सुमन जी।

      Delete
  9. वाह!
    बहुत खूब!
    नर्म से अहसास लिए हुए रचना.

    ReplyDelete
  10. Replies
    1. शुक्रिया धीरेन्द्र जी,
      आपको बधाई हो आपके 150 वीं पोस्ट के लिए।

      Delete
  11. बहुत खूब .. ये तो काफी है उम्र को महकाने के लिए ...
    लाजवाब ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाहाहा, शुक्रिया दिगम्बर भाई।

      Delete
  12. वाह! बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण रचना। सचमुच अति सार्थक प्रस्तुति। बधाईं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. तेजकुमार जी,
      बेहद शुक्रिया।

      Delete
  13. lajawab ........ bahut hi sundar

    ReplyDelete
  14. बेहद रूमानी बेहद खुबसूरत! तारीफ़ को शब्द नहीं है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया स्नेहा जी, thnks...

      Delete
  15. bhut hi khubsurat hain apke shabd or unhe itne khubsurat dhang se pesh krna ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,like it

    ReplyDelete

आपकी टिपणी के लिए आपका अग्रिम धन्यवाद
मानव मेहता