Saturday, April 20, 2013

प्यार के रंगों से सजी जिंदगी




जब से बा-रंग हुई है जिंदगी,
खुद को ढूँढता फिरता हूँ मैं...
न जाने किस ओर गुम हो गया हूँ मैं,
हो गर वाकिफ़ तो बताओ पहचान मेरी......

कुछ इस तरह से है ; कि जिंदगी में,
भर आया है इक प्यार का दरिया...
डूब गया हूँ शायद मैं इसमे,
या तैर रहा हूँ मौजे-सुखन में...
नहीं एहसास अब कोई
इक दर्द-ए-इश्क के सिवा.....

इक पल में ठहर गई थी वो शाम,
जब कोई मेरे सिरहाने में आकर
चुपचाप दबी आवाज में कुछ कह गया था....
मेरे दिल के ‘फसील’ में कोई,
बे-आवाज हो गया था दाखिल,
तब से ठहरी हुई सी है जिंदगी मेरी...
और रुका हुआ हूँ मैं,
बस इक उस अदद आवाज के सहारे...

तमाम फासले जो इक अदद से,
हमारे दरम्यान फैला चुके थे अपनी बाजुएँ,
कि अचानक गुम हो गये,
उस एक लहजा में .....

और मेरी बाहों में सिमट आई तभी से,
प्यार के रंगों से सजी जिंदगी ......!!



मानव मेहता ‘मन’

  

38 comments:

  1. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति,सुंदर रचना,,,

    RECENT POST : प्यार में दर्द है,

    ReplyDelete
  2. सुंदर भाव ...बने रहें जीवन के रंग

    ReplyDelete
  3. मानव ...ख्याल बहुत खूबसूरत है
    पर (बा -रंग .... सिरहाने में ..... गम होगये उसके एक लहजा में ....) इनपे ध्यान दो ..शायद कुछ है ..:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Shukriya Poonam ji...
      Kya hua in words ko... aap btaiye..

      Delete
  4. यूँ ही प्यार के रंगों से सजी रहे जिंदगी....

    ReplyDelete
  5. सुन्दर भाव ....
    सादर
    http://boseaparna.blogspot.in/

    ReplyDelete
  6. ऐसा होता है अचानक किसी के आ जाने से ...
    ये जीवन यूं ही चलता रहे ...

    ReplyDelete
  7. Waah bahut rangon me sazi jindagi sundar rachna .

    ReplyDelete
  8. प्यार दीवाना होता है मस्ताना होता है
    हर खुशी से हर गम से बेगान होता है....:-) प्यार के रंग में रंगी सुंदर भावभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  9. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 24/04/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  10. क्या बात ...बहुत उम्दा ।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर....कोमल...

    अनु

    ReplyDelete
  12. सार्थक और भाव पूर्ण |
    आशा

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर अनुभूति
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post बे-शरम दरिंदें !
    latest post सजा कैसा हो ?

    ReplyDelete
  14. वाह .........;बहुत ही बढिया।

    ReplyDelete

आपकी टिपणी के लिए आपका अग्रिम धन्यवाद
मानव मेहता