Saturday, October 27, 2012



तेरे शब्द
चोट करते हैं
मुझ पर....

किसी लोहार के
हथोड़े कि मानिद...

मैं सोच रहा हूँ
आखिर
तुम मुझे __

किस शक्ल में
ढालना चाहती हो.....


7 comments:

  1. किसी को बदल देना ...प्यार नहीं है

    ReplyDelete
  2. Sahi kha Anju ji... Ye pyaar nahi... Tabhi to ye shabd likhe gaye....

    ReplyDelete
  3. और क्यूँ?
    मैं पत्थर तो हूँ नहीं ...

    ReplyDelete
  4. शुक्रिया मनु जी...

    ReplyDelete
  5. शब्दों को बांधों मत
    ढलने दो
    जिस शक्ल में ढलते हैं...

    शब्द ही हैं आखिर- 'मन' नहीं !!

    ReplyDelete

आपकी टिपणी के लिए आपका अग्रिम धन्यवाद
मानव मेहता